गंगा बहती हो क्यों

रचना: पंडित नरेंद्र शर्मा
स्वर: भूपेन हजारिका

विस्तार है अपार प्रजा दोनों पार
करे हाहाकार निःशब्द सदा
ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यों

नैतिकता नष्ट हुयी, मानवता भ्रष्ट हुयी
निर्लज्ज भाव से बहती हो क्यों

इतिहास की पुकार करे हुंकार
ओ गंगा की धार निर्बल जन को
सबल संग्रामी समग्र गामी बनाती नहीं हो क्यों

विस्तार है अपार प्रजा दोनों पार
करे हाहाकार निःशब्द सदा
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यों

अनपढ़ जन अक्षरहीन, अनगिन जन खाद्य विहीन
नेत्र विहीन देख मौन हो क्यों

इतिहास की पुकार करे हुंकार
ओ गंगा की धार निर्बल जन को
सबल संग्रामी समग्र गामी बनाती नहीं हो क्यों

विस्तार है अपार प्रजा दोनों पार
करे हाहाकार निःशब्द सदा
ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यों

व्यक्ति रहे व्यक्ति केंद्रित, सकल समाज व्यक्तित्व रहित
निश्प्राण समाज को तोड़ती न क्यों

इतिहास की पुकार करे हुंकार
ओ गंगा की धार निर्बल जन को
सबल संग्रामी समग्र गामी बनाती नहीं हो क्यों

विस्तार है अपार प्रजा दोनों पार
करे हाहाकार निःशब्द सदा
ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यों

श्रुतस्विनी क्यों न रहीं, तुम निश्चय चेतन नहीं
प्राणों में प्रेरणा देती न क्यों, उन्मद अवनी कुरुक्षेत्र बनी
गंगे जननी नव भारत में, भीष्मरूपी सुतसमरजयी जनती नहीं हो क्यों

विस्तार है अपार प्रजा दोनों पार
करे हाहाकार निःशब्द सदा
ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यों

यू ट्यूब वीडियो:

Advertisements

6 Responses to गंगा बहती हो क्यों

  1. halchal कहते हैं:

    बहुत सुन्दर।
    यह एक बार यूनुस ने प्रस्तुत किया था तो एक महापण्डित बहुत पिनपिनाये थे! मेरी इस पोस्ट का अवलोकन करें।

  2. - लावण्या कहते हैं:

    इस गीत के शब्द मेरे पिता स्व. पंडित नरेन्द्र शर्मा जी ने लेखे थे जिसे भूपेन दा ने बखूबी गाया है —

  3. hemjyotsana "Deep" कहते हैं:

    iss geet ko ham bahut dino se yaad karne ki koshish kar rhe the DD1 par kisi jamane main sunaa tha 🙂
    bahut bahut aabhar ke aapne ise yanha prastut kiya

    saadar
    hem jyotana
    http://hemjyotsana.com

  4. Hari Bahuguna कहते हैं:

    This song is very sweet and touch my heart.

  5. RAMESH MISHRA कहते हैं:

    this song is hrtiest of my heart

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: