वो मुझसे हुये हमकलाम अल्लाह

रचना: सूफ़ी ग़ुलाम मुस्तफ़ा तबस्सुम
स्वर: फ़रीदा ख़ानुम

वो मुझसे हुये हमकलाम अल्लाह अल्लाह
कहाँ मैं कहाँ ये मकाम अल्लाह

वो रु-ए-दरख़्शाँ वो ज़ुल्फ़ों के साये
वो हंगामा-ए-सुबह-ओ-शाम अल्लाह अल्लाह
(रु-ए-दरख़्शाँ == रोशन चेहरा)

वो सहमा हुआ आँसुओं का तलातुम
वो आब-ए-रवा बेशरम अल्लाह अल्लाह
(तलातुम == सैलाब, तूफ़ान, आब-ए-रवा == बहता हुआ पानी)

वो ज़ब्त-ए-सुख़न में लबों की ख़ामोशी
नज़र का वो लुत्फ़-ए-करम अल्लाह अल्लाह
(ज़ब्त-ए-सुख़न == बातों पर नियंत्रण, लुत्फ़-ए-करम == कृपा का आनंद)

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: