ये क्या के एक जहाँ को

रचना: सूफ़ी ग़ुलाम मुस्तफ़ा तबस्सुम
स्वर: फ़रीदा ख़ानुम

ये क्या के एक जहाँ को करो वक़्फ़-ए-इज़्तराब
ये क्या के एक दिल को शकेबाँ न कर सको
(वक़्फ़-ए-इज़्तराब == बेचैनी की विरासत, शकेबाँ == आराम देना)

ऐसा न हो ये दर्द बने दर्द-ए-लाज़वल
ऐसा न हो के तुम भी मुदावा न कर सको
(दर्द-ए-लाज़वल == लाइलाज मर्ज, मुदावा == इलाज)

शायद तुम्हें भी चैन न आये मेरे बग़ैर
शायद ये बात तुम भी गवारा न कर सको

क्या जाने फिर सितम भी मयस्सर हो न हो
क्या जाने ये करम भी करो या न कर सको
(मयस्सर == संभव/मुमकिन)

अल्लाह करे जहाँ को मेरी याद भूल जाय
अल्लाह करे के तुम कभी ऐसा न कर सको

मेरे सिवा किसी की न हो तुम को जुस्तजू
मेरे सिवा किसी की तमन्ना न कर सको
(जुस्तजू == इच्छा/चाह)

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: