कहूँ किससे क़िस्सा-ए-दर्द-ओ-ग़म

रचना: अक़बर इलाहाबादी
स्वर: नय्यारा नूर

कहूँ किससे क़िस्सा-ए-दर्द-ओ-ग़म, कोई हमनशीं है न यार है
जो अनीस है तेरी याद है जो शफ़ीक़ है दिलज़ार है

तू हज़ार करता लगावटें मैं कभी न आता फ़रेब में
मुझे पहले इसकी ख़बर न थी तेरा दो ही दिन का ये प्यार है

ये नवीद औरों को जा सुना हम असीर-ए-नाम हैं ऐ सबा
हमें क्या चमन है जो रंग पर हमें क्या जो फ़सल-ए-बहार है

मुझे रहम आता है देखकर तेरा हाल ‘अक़बर’ रोहगर
तुझे वो भी चाहे ख़ुदा करे कि तु जिसका आशिक़-ए-ज़ार है

Advertisements

2 Responses to कहूँ किससे क़िस्सा-ए-दर्द-ओ-ग़म

  1. MEET कहते हैं:

    आप के पोस्ट का इंतज़ार रहता है. धन्यवाद.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: