हमें जहाँ में कोई साहिब-ए-नज़र न मिला

स्वर: गुल बहार बानो

हमें जहाँ में कोई साहिब-ए-नज़र न मिला
जो दिल की आँख से देखे वो दिल गवर न मिला
(दिल गवर == दिलवाला)

मता-ए-ज़िस्त में शामिल रहे हज़ार रफ़ीक़
वो जिसकी चाह थी दिल को वही मगर न मिला
(मता-ए-ज़िस्त == ?, रफ़ीक़ == दोस्त)

मुसाफ़िरों की थकावट कुछ इसलिये भी थी
सफ़र में धूप मिली साया-ए-जज़र न मिला
(साया-ए-जज़र == तनिक सी छाँव)

तलाश करते रहे हम कहाँ कहाँ लेकिन
सुकून-ए-कर्ब-नज़र हमको हमनज़र न मिला
(कर्ब-नज़र == व्यथित आँखें)

हमें जहाँ में कोई साहिब-ए-नज़र न मिला

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: