है ये आलम तुझे भुलाने में

रचना: सरूर बाराबंकवी
स्वर: फ़िरदौसी बेग़म
फ़िल्म: नवाब सिराजुद्दौला

है ये आलम तुझे भुलाने में, अश्क आते हैं मुस्कुराने में

एक सूरत भी आशना सी नहीं, इतनी तनहा हूँ मैं जमाने में

वो मेरे ख़ून-ए-आरज़ू से सही, रंग तो आ गया फ़साने में

कितनी सुनसान है चमन की फ़िज़ा, दिल धड़कता है आशियाने में

इस वीडियो को यू-ट्यूब की वेबसाइट पर जाकर चलायें

Advertisements

2 Responses to है ये आलम तुझे भुलाने में

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: