ख़ुमार बाराबंकवी की कुछ ग़ज़लें…

अगस्त 11, 2009

ख़ुमार बाराबंकवी

हम उन्हें वो हमें भुला बैठे…

ऐसा नहीं के उनसे मुहब्बत नहीं रही…

एक पल में एक सदी का मज़ा हम से पूछिये…

वो हमें जिस कदर आजमाते रहे…

Advertisements

बात करनी मुझे मुशकिल कभी ऐसी तो न थी…

जून 18, 2009

स्वर:मेंहदी हसन
रचना: बहादुर शाह ज़फ़र


बस कर जी

अक्टूबर 24, 2008

रचना: बाबा बुल्ले शाह
स्वर: पूरण चन्द्र वडाली और प्यारेलाल वडाली (वडाली बन्धु)

बस कर जी हुण बस कर जी, इक बात असाँ नाल हँस कर जी

तुसीं दिल मेरे विच वसदे हो, एवें साथों दूर क्यों नसदे हो
नाले घत जादू दिल खसदे हो, हुण कित वल जासो नस कर जी
बस कर जी हुण बस कर जी

तुसीं मोयाँ नु मार ना मुकदे सी, खिदो वांग खूंडी नित कुटदे सी
गल्ल करदेयाँ दा गल घुटदे सी, हुण तीर लगाया कस कर जी,
बस कर जी हुण बस कर जी

बुल्ला शाह मैं तेरी बरदी हाँ, तेरा मुख वेखण नूँ मरदी हाँ
नित सौ सौ मिन्नताँ करदी हाँ, हुण बैठ पिंजर विच ठँस कर जी
बस कर जी हुण बस कर जी

सुनें: http://www.divshare.com/download/5960286-479


दो और :: लपक झपक और आ मिल यार

अगस्त 18, 2008

लपक झपक :: मन्ना डे :: बूट पॉलिश

आ मिल यार :: वडाली बन्धु :: बुल्ले शाह


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी


बाबा बुल्ले शाह

जुलाई 17, 2008

बुल्ला की जाणा मैं कौन (वडाली बन्धु)

घूँघट चक लै सजना (नुसरत फ़तेह अली ख़ान)

घूँघट चक लै सजना (वडाली बन्धु)

तेरे इश्क़ नचाया (आबिदा परवीन)


अताउल्लाह ख़ान

जुलाई 12, 2008

स्वर: अताउल्लाह ख़ान

दूरों दूरों सानु तरसांदे ओ, असाँ बुलाये ते नि आंदे ओ

इश्क़ में हम तुम्हें क्या बतायें

सब माया है

बालों बतियाँ वे माही


आई आई टी कानपुर में मंगनियर लोकगीत कार्यक्रम

जुलाई 7, 2008

पिछले सप्ताहांत पर आई आई टी कानपुर के रासायनिक अभियांत्रिकी विभाग द्वारा आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन केम्फ़ेरेन्स 08 में रोजे ख़ान मंगनियर मंडली द्वारा एक राजस्थानी लोकगीतों का कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। मंगनियर स्वयं को राजपूतों का वंशज मानते हैं और थार (जैसलमेर और बाड़मेर) के सर्वोत्तम संगीतकारों मे से हैं। एक और ध्यान देने योग्य पहलू यह है कि हमेशा से ही इनके संरक्षक हिन्दू रहे हैं परन्तु मंगनियर सदैव मुस्लिम होते हैं।

प्रस्तुत है इसी कार्यक्रम के कुछ अंश:

महाराज गजानन आओ रे, म्हारी मंडली में रंग बरसाओ रे

निंबुड़ा निंबुड़ा

दमादम मस्त क़लन्दर

रंगीलो म्हारो

राजस्थानी अलगोजा (दो बाँसुरी)

राजस्थानी बीन