बात करनी मुझे मुशकिल कभी ऐसी तो न थी…

जून 18, 2009

स्वर:मेंहदी हसन
रचना: बहादुर शाह ज़फ़र

Advertisements

लागी रे लागी लगन ये ही दिल में

जून 2, 2008

स्वर: मेहदी हसन

लागी रे लागी लगन ये ही दिल में
दीप जले सुर के सागर में जब मैं गीत सुनाऊँ
लागी रे…

सरगम छेड़ूँ बरखा वर से जलती आग बुझाऊँ रे
लागी लगन…

नील गगन की परियाँ नाचें जब मैं तान लगाऊँ रे
लागी लगन…

दूर हों सारे दुःख अँधियारे प्यार की जोत जगाऊँ रे
लागी लगन…




दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के

मई 13, 2008

रचना: फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
स्वर: मेंहदी हसन / बेग़म अख़्तर / नूरजहाँ

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के

वीराँ है मैकदा ख़ुम-ओ-साग़र उदास है
तुम क्या गये के रूठ गये दिन बहार के

इक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन
देखे हैं हमने हौसले परवर-दिगार के

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया
तुझ से भी दिल फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के

भूले से मुस्कुरा तो दिये थे वो आज ‘फ़ैज़’
मत पूछ वल-वले दैल-ए-ना-कर्दाकार के

मेंहदी हसन

बेग़म अख़्तर

नूरजहाँ


मोहब्बत करनेवाले कम न होंगे

अप्रैल 3, 2008

रचना: हफ़ीज़ होशियारपुरी
स्वर: मेहदी हसन

मोहब्बत करनेवाले कम न होंगे
तेरी महफ़िल में लेकिन हम न होंगे

ज़माने भर के ग़म या इक तेरा ग़म
ये ग़म होगा तो कितने ग़म न होंगे

दिलों की उलझनें बढ़ती रहेंगी
अगर कुछ मश्वरे बाहम न होंगे
(बाहम == आपस में)

अगर तू इत्तफ़ाक़न मिल भी जाये
तेरी फ़ुर्क़त के सदमें कम न होंगे
(फ़ुर्क़त == जुदाई)

‘हफ़ीज़’ उन से मैं जितना बदगुमाँ हूँ
वो मुझ से इस क़दर बर्हम न होंगे
(बदगुमाँ == शक करना, बर्हम == नाराज़)


मैं ख़याल हूँ किसी और का

फ़रवरी 21, 2008

रचना: सलीम कौसर
स्वर: मेहदी हसन

मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है
सर-ए-आईना मेरा अक्स है पस-ए-आइना कोई और है

मैं किसी के दस्त-ए-तलब में हूँ तो किसी के हर्फ़-ए-दुआ में हूँ
मैं नसीब हूँ किसी और का मुझे माँगता कोई और है

कभी लौट आयें तो न पूछना सिर्फ़ देखना बड़े ग़ौर से
जिन्हें रास्ते में ख़बर हुई कि ये रास्ता कोई और है

अजब ऐतबार-ब-ऐतबारी के दर्मियाँ है ज़िन्दगी
मैं क़रीब हूँ किसी और के मुझे जानता कोई और है

वही मुन्सिफ़ों की रिवायतें वही फ़ैसलों की की इबारतें
मेरा जुर्म तो कोईऔरथा पर मेरी सज़ा कोई और है

तेरी रोशनी मेरी ख़द्दो-ख़ाल से मुख़्तलिफ़ तो नहीं मगर
तू क़रीब आ तुझे देख लूँ तू वही है या कोई और है

तुझे दुश्मनों की ख़बर न थी मुझे दोस्तों का पता नहीं
तेरी दास्ताँ कोई और थी मेरा वाक़याँ कोई और है

जो मेरी रियाज़त-ए-नीमशब को “सलीम” सुबह न मिल सकी
तो फिर इस के माने तो ये हुए के यहाँ ख़ुदा कोई और है

यू-ट्यूब वीडियो:
पहला भाग (6:00 मिनट)

दूसरा भाग (4:54 मिनट)


ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं

फ़रवरी 11, 2008

शायर: क़तील शिफ़ाई
स्वर: मेंहदी हसन
फ़िल्म: अज़्मत

ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा

तू मिला है तो ये एहसास हुआ है मुझको
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिये थोड़ी है
इक ज़रा सा ग़म-ए-दौराँ का भी हक़ है जिस पर
मैंने वो साँस भी तेरे लिये रख छोड़ी है
तुझ पे हो जाऊँगा क़ुर्बान तुझे चाहूँगा

मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा
ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं

अपने जज़बात में नग़मात रचाने के लिये
मैंने धड़कन की तरह दिल में बसाया है तुझे
मैं तसव्वुर भी जुदाई का भला कैसे करूँ
मैंने क़िस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे
प्यार का बन के निगेहबान तुझे चाहूँगा

मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा
ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं

तेरी हर चाप से जलते हैं ख़यालों में चिराग़
जब भी तू आये जगाता हुआ जादू आये
तुझको छू लूँ तो फ़िर ए जान-ए-तमन्ना मुझको
देर तक अपने बदन से तेरी ख़ुशबू आये
तू बहारों का है उनवान तुझे चाहूँगा

मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा
ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं

मेंहदी हसन एक महफ़िल में गाते हुये:

फ़िल्म अज़्मत (1973) का वीडियो:

क़तील शिफ़ाई: संक्षिप्त परिचय
वास्तविक नाम: औरंगज़ेब ख़ान
जन्म: 24 दिसम्बर, 1919
उस्ताद: हकीम मोहम्मद ‘शिफ़ा’
गीत संग्रह: मुतरिबा
पेशा: पाकिस्तानी और हिन्दी फ़िल्मों के गीतकार
फ़िल्मों में ग़ज़ल के स्तर को उठाने के लिये जाने जाते हैं। आपने सरल हिन्दी और उर्दू शब्दों के प्रयोग से उर्दू गीतों को आम जनता में लोकप्रियता दिलाई। जगजीत सिंह और चित्रा के साथ भी कई एलबम में काम किया।


कू-ब-कू फैल गयी बात

फ़रवरी 9, 2008

रचना: परवीन शाकिर
स्वर: मेंहदी हसन
राग: दरबारी

कू-ब-कू फैल गयी बात शनासाई की
उसने ख़ुशबू की तरह मेरी पज़ीराई की
(कू-ब-कू == गली गली में, शनासाई == जान पहचान, पज़ीराई == स्वागत)

कैसे कह दूँ के मुझे छोड़ दिया है उसने
बात तो सच है मगर बात है रुसवाई की

वो कहीं भी गया लौटा तो मेरे पास आया
बस यही बात है अच्छी मेरे हरजाई की
(हरजाई == बेवफ़ा)

उसने जलती हुयी पेशानी पे जब हाथ रखा
रूह तक आ गयी तासीर मसीहाई की
(पेशानी == माथा, तासीर == असर)

तेरा पहलू तेरे दिल की तरह आबाद रहे
तुझपे गुज़रे न क़यामत शबे तन्हाई की

यू-ट्यूब वीडियो:
मेंहदी हसन की आवाज़ में ग़ज़ल

परवीन शाकिर एक मुशायरे में