बात करनी मुझे मुशकिल कभी ऐसी तो न थी…

स्वर:मेंहदी हसन
रचना: बहादुर शाह ज़फ़र

Advertisements

3 Responses to बात करनी मुझे मुशकिल कभी ऐसी तो न थी…

  1. Dr.Arvind Mishra कहते हैं:

    मेरी पसंदीदा गजल ! कितने दिनों से सुनने की तमन्ना थी -जी चाहता है सदियों तक सुनता रहूँ ! शुक्रिया !!!

  2. Kajal Kumar कहते हैं:

    भाई बहुत, सुंदर. धन्यवाद इतनी सुंदर प्रस्तुति के लिए.

  3. रंजन कहते हैं:

    बहुत खुब.. ्बहुत सुना इसे..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: