आ मेरे प्यार की ख़ुशबू

रचना: क़तील शिफ़ाई
स्वर: उस्ताद अमानत अली ख़ान

आ मेरे प्यार की ख़ुशबू
मंजिल पे तुझे पहुँचायें
चलता चल हमराही
मेरी ज़ुल्फ़ के साये साये
आ मेरे प्यार की ख़ुशबू

सूरज की तरह मैं
पर मुझमें धूप नहीं है
जो शोला बनकर
मेरा ऐसा रूप नहीं है
जो नज़रों को झुलसाये
आ मेरे प्यार की ख़ुशबू

मैं रात की आँख का तारा
मैं नूर का रोशन ठारा
मैं जागूँ रात के दिल में
जब सो जाये जग सारा
तब तेरी याद आ जाय
आ मेरे प्यार की ख़ुशबू

तू चुनता सिर्फ़ मुझी को
पहचान तुझे गर होती
इंसाफ़ से तू ख़ुद कहता
ये कंकर है ये मोती
मेरा प्यार तुझे समझाये
आ मेरे प्यार की ख़ुशबू

Advertisements

One Response to आ मेरे प्यार की ख़ुशबू

  1. paramjitbali कहते हैं:

    बढिया रचना प्रेषित की है।आभार।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: